Home » खेल » भेल में संडे को दिखेगा “मेरीकॉम” के मुक्कों का दम

भेल में संडे को दिखेगा “मेरीकॉम” के मुक्कों का दम

भोपाल। भेल में आगामी संडे की सुबह बेहद खास होगी। शहरवासियों को कई अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय गोल्ड मेडलिस्ट महिला मुक्केबाजों की फौज खुली फिजा में नेशनल कोच रोशनलाल के मार्गदर्शन में मुक्के बरसाती नजर आएंगी। प्रदेश की इन होनहार महिला मुक्केबाजों का मेला लगने जा रहा है पत्रिका हमराह में, जहां महिलाओं और बेटियां को भी कोच और खिलाडियों से सेल्फ डिफेंस के कई अहम गुर सीखने को मिलेंगे।
भागदौड़ भरी इस जिदंगी में लोगों को हर संडे के संडे मौज-मस्ती के साथ-साथ अपनी फिटनेस का ख्याल रखने के लिए यह पहल की है पत्रिका ने। बड़ा तालाब और शाहपुरा के बाद पत्रिका और भेल ऑफिसर्स क्लब के इस संयुक्त आयोजन हमराह की शुरूआत इस रविवार 23 नवंबर से भेल में हो रही है।
खेल से लोगों का बढ़ेगा जुड़ाव
रोशनलाल ने बताया कि हमराह में महिला मुक्केबाजों को खुली हवा में मुक्केबाजी करते देखकर नए लोग भी इस खेल से जुड़ने के लिए प्रेरित होंगे। इन्हें देखकर लोगों का इस खेल के प्रति रूझान भी बढ़ेगा।
आशा रोका : इंटरनेशनल नेशंस कप गोल्ड मेडलिस्ट एंड थ्री-टाइम्स सब जूनियर चैम्पियन हैं मिनी मेरीकॉम
श्रुति यादव : नेशनल गोल्ड मेडलिस्ट और मुहम्मद अली पर मणिरत्नम की अपकमिंग मूवी फेम खिलाड़ी
सरिता सिंह: सेकंड नेशंस कप सेमीफाइनलिस्ट और मणिरत्नम की अपकमिंग मूवी फेम खिलाड़ी
शानदार पहल
ऑफिसर्स क्लब के सामने वाली सड़क पर सुबह 7 बजे से 11 बजे तक होने वाले इस कार्यक्रम को लेकर देश के नेशनल कोच रोशनलाल समेत कई अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय युवा महिला मुक्केबाजों में भी जबरदस्त उत्साह है। बॉक्सिंग कोच रोशनलाल ने कहा कि पत्रिका की यह शानदार पहल है। इससे आम नागरिकों को भी बहुत कुछ सीखने को मिलेगा। वे खिलाडियों को करीब से जान पाएंगे। अपनी फिटनेस मेंटेन करने के लिए खिलाड़ी तो हमेशा ही कड़ी मेहनत करते है, लेकिन इससे आम लोग भी फिटनेस के प्रति अवेयर होंगे। उन्होंने बताया कि मुक्केबाजी से विल पॉवर भी बढ़ता है।
सेल्फ डिफे ंस का सबसे अच्छा हथियार
विश्वामित्र अवॉर्डी इस कोच ने बताया कि बॉक्सिंग महिलाओं के लिए सेल्फ डिफे ंस का सबसे अच्छा हथियार है। इसमें असामाजिक तत्वों को सबक सिखाने के लिए सारे पंच मौजूद है। हम हमराह में लोगों को सेल्फ डिफे ंस के कई अहम टिप्स देंगे। जैसे कि उन्हें कहा हीट करके बेहोश कर सकते है और कहा हीट करके चित भी। इससे खेल और खिलाडियों को भी प्रोत्साहन मिलेगा। लोगों को खिलाडियों की लाइफस्टाइल भी जानने का मौका मिलेगा। खिलाडियों से मिलने के बाद शहर से और भी टैलेंट सामने उभरकर आएंगे और इस खेल से जुड़ेंगे।
स्वास्थ के लिए भी लाभदायक
नेशनल कोच ने बताया कि बॉक्सिंग स्वास्थ्य के लिहाज से भी लाभदायक है। इससे लंग और हार्ट की कार्य करने की क्षमता बढ़ती है। विदेशों में भी लोगा बॉक्सिंग को सबसे ज्यादा प्रीफर करते है।]

source www.patrika.com

Check Also

भोपाल- भारतीय जूनियर हॉकी टीम खिलाड़ी खुशबू को मिलेगा पक्का आशियाना

जहांगीराबाद मोहल्ले में रहने वाली भारतीय जूनियर हॉकी टीम में गोल कीपर सुश्री खुशबू को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

17 − two =