Home » मध्यप्रदेश » भोपाल » बसों ने रौंदा मंत्री का आदेश
बसों ने रौंदा मंत्री का आदेश

बसों ने रौंदा मंत्री का आदेश

भोपाल।गृहमंत्री बाबूलाल गौर ने दो सप्ताह पहले भारी और बड़ी एसी बसों को अपने निर्घारित रूट से चलाने के निर्देश दिए थे। इस मामले में प्रशासन और ट्रैफिक विभाग ने अब तक कोई सख्त कदम नहीं उठाया। नतीजतन बस स्टैंडों से निर्घारित रूट की बसें संचालित नहीं हो रही हैं।

इनके शहर के अंदर से गुजरने से ट्रैफिक जाम हो जाता है। ये सभी बसें अपने निर्घारित स्थानों से चलें तो शहर में जाम से मुक्ति मिल सकती है।

भोपाल के पांच बस स्टैंडों में से सबसे ज्यादा अव्यवस्था नादरा बस स्टैंड और आईएसबीटी पर हैं। आईएसबीटी पर निजी ऑपरेटर और सरकारी एजेंसियां शासन के नियम तोड़ रही हंै।

इनमें बीसीएलएल,एआईसीटीएसएल सहित पर्यटन विकास निगम की बसें भी शामिल हैं। इन निजी ऑपरेटरों को राजनीतिक संरक्षण प्राप्त है। इस कारण प्रशासन इन पर कार्रवाई करने से कतराता है। गौरतलब है कि शहर के अंदर बसों की एंट्री को रोकने के लिए तीन साल पहले संभाग आयुक्त ने नियम बनाए थे। इसका नोटिफिकेशन भी किया गया था।

शहर के अंदर से गुजरती हैं बसें

इंदौर रूट की बसें आईएसबीटी से होकर चेतक ब्रिज, बोर्ड ऑफिस चौराहा, न्यू मार्केट, कमला पार्क, सदर मंजिल, रॉयल मार्केट, लालघाटी व हलालपुर से होकर इंदौर जाती-आती हैं।

इनमें से अधिकांश बसें बोर्ड ऑफिस चौराहे और न्यू मार्केट के पास अघोçष्ात बस स्टैंड बनाकर सवारियां बैठाते और उतारते हैं। इस कारण यहां पर कई बार जाम की स्थिति बनती है। इसी तरह, नादरा बस स्टैंड आने जाने के लिए हमीदिया रोड पर दबाव पड़ता है।

आईएसबीटी

यहां से सागर, छतरपुर, इटारसी, जबलपुर, होशंगाबाद, नागपुर, बैतूल, बालाघाट, छिंदवाड़, रीवा, सतना, पन्ना आदि रूट की बसें संचालित करने का नियम है।

कहां की चल रही हैं

यहां से इंदौर के लिए बीसीएलएल व एआईसीटीएसएल की एसी बसें, पर्यटन विकास निगम की एसी बसें सहित प्राइवेट बस ऑपरेटर की बसें संचालित होती हैं।

नादरा बस स्टैंड

यह बस स्टैंड शहर के बीचों बीच है। शहर में ट्रैफिक जाम की समस्या न हो, इसके लिए यहां से सिर्फ विदिशा की बसें चलाने का नियम है।
यहां के लिए चल रही हैं

वर्तमान में इंदौर, सागर, रीवा, पन्ना, छतरपुर, बालाघाट सहित सभी
रूटों की बसें यहां खड़ी होती हैं।

शासन ने जिस बस स्टैंड से जिस रूट के वाहन चलाने का निर्णय लिया है। उसे ही मान्य किया जाएगा। आईएसबीटी से चलने वाली बसों के संबंध में अधिकारियों से जानकारी लूंगा कि क्या कार्रवाई हुई।- बाबूलाल गौर, गृहमंत्री
परिवहन विभाग बसों को परमिट देता है। इसमें बस स्टैंड का नाम नहीं लिखा जाता। यदि बसें गलत स्थान से चल रही हैं तो ट्रैफिक विभाग को कार्रवाई करनी चाहिए। कार्रवाई के लिए हम पत्र लिख चुके हैं।- अजय गुप्ता, आरटीओ, भोपाल

एसी और टूरिस्ट बसें कहीं से भी संचालित हो सकती है। संभाग आयुक्त के नियम रूटीन बसों के लिए हैं। इसकी जानकारी वरिष्ठ अधिकारियों को दी जा चुकी है।- महेंद्र जैन, डीएसपी, ट्रैफिक
Source www.patrika.com

Check Also

भोपाल - पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग की समीक्षा बैठक सम्पन्न

भोपाल – पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग की समीक्षा बैठक सम्पन्न

भोपाल – कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आज मुख्य कार्यपालन अधिकारी पंचायत श्री हरजिन्दर सिंह की अध्यक्षता …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *