Home » मध्यप्रदेश » भोपाल » खाद पर सदन में घिरी सरकार कांग्रेस ने किया बहिर्गमन
खाद पर सदन में घिरी सरकार कांग्रेस ने किया बहिर्गमन

खाद पर सदन में घिरी सरकार कांग्रेस ने किया बहिर्गमन

भोपाल। प्रदेश में खाद और बीज की कमी पर सदन में सरकार घिर गई। विपक्ष ने खाद की कालाबाजारी के आरोप लगाए, जिसके बाद कृषि मंत्री ने कालाबाजारी पर सख्त कार्रवाई का आश्वासन दिया। खाद पर तीखी नोंक-झोंक के बीच कांग्रेस विधायक दल ने कृषि मंत्री के जवाब से असंतुष्ट होकर बहिर्गमन कर दिया।

विधानसभा सत्र में गुरुवार से शुरू हुई खाद पर चर्चा शुक्रवार को भी हुई। इसमें कांग्रेस के विधायकों ने सरकार को घेरा। इसके जवाब में कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन ने कहा कि खाद की मांग और आपूर्ति में महज दस प्रतिशत का अंतर है।

कृषि मंत्री ने माना कि सितंबर और अक्टूबर में खाद कम आई थी, लेकिन नवंबर से हालात सुधरे हैं। अब हर दिन पांच रैक आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि खाद की नीति में फेरबदल किया जाएगा। कहीं कालाबाजारी है, तो उस पर कार्रवाई होगी। किसानों को नकद पर भी खाद दी जाएगी। जरूरत पड़ी तो क्रेडिट लिमिट भी बढ़ाई जाएगी।

उपनेता-प्रतिपक्ष बाला बच्चन ने कहा कि कृषि मंत्री पहले यह बताए कि खाद की कमी को कैसे पूरा करेंगे। इस पर मंत्री जवाब देने लगे, तो कांग्रेस विधायक संतुष्ट नहीं हुए। इसके बाद हंगामा करते हुए कांग्रेस विधायकों ने बहिर्गमन कर दिया। इसके बाद विधानसभा परिसर में मीडिया रूम के सामने आकर विधायकों ने जमकर नारेबाजी भी की।

चर्चा शुरू कराने वाले ही गायब

कृषि मंत्री के जवाब के समय कांग्रेस के जिन विधायकों ने खाद पर चर्चा शुरू कराई वे ही गायब रहे, इसमें रामनिवास रावत, गोविंद सिंह और जीतू पटवारी हैं।

भाजपा विधायक ने स्वीकारी कालाबाजारी-

भाजपा विधायक बहादुर सिंह चौहान ने स्वीकार किया कि कालाबाजारी हो रही है। सदन में चौहान बोले कि खाद प्रदेश में पर्याप्त है, लेकिन वह किसानों को नहीं मिल रहा। कहीं न कहीं कालाबाजारी हो रही है।
source www.patrika.com

Check Also

भोपाल - पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग की समीक्षा बैठक सम्पन्न

भोपाल – पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग की समीक्षा बैठक सम्पन्न

भोपाल – कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आज मुख्य कार्यपालन अधिकारी पंचायत श्री हरजिन्दर सिंह की अध्यक्षता …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *