Home » मध्यप्रदेश » भोपाल » विश्व एड्स दिवस आज, कहां गए नौ हजार एचआईवी पीड़ित!
विश्व एड्स दिवस आज, कहां गए नौ हजार एचआईवी पीड़ित!

विश्व एड्स दिवस आज, कहां गए नौ हजार एचआईवी पीड़ित!

भोपाल (नप्र)। संकोच और डर एचआईवी/एड्स पीड़ितों पर भारी पड़ रहा है। जानलेवा बीमारी होने के बाद भी मरीज इलाज से बच रहे हैं। इतना ही नहीं इलाज के लिए एक बार आ भी गए तो बीच में ही दवा छोड़ देते हैं, जिससे उनकी बीमारी और खतरनाक हो जाती है।

मध्यप्रदेश में 2005 से लेकर अब तक 39114, एचआईवी पाजीटिव खोजे जा चुके हैं। इनमें 40 फीसदी से ज्यादा को एड्स भी हो चुका है। इसके बाद भी 9000 से ज्यादा एचआईवी पाजीटिव ऐसे हैं जो आज तक एआरटी (एंटीरेट्रोवायरल ट्रीटमेंट) सेंटर नहीं पहुंचे हैं। महज 31,000 मरीज ही एआरटी सेंटर में पंजीकृत हुए हैं।

मप्र एड्स कंट्रोल सोसायटी (एमपीसैक)के अधिकारियों ने बताया कि पिछले 10 सालों में प्रदेश में इस बीमारी से लगभग 6500 मरीजों की जान जा चुकी है। इनमें 2000 ऐसे हैं जो इलाज के लिए सामने ही नहीं आए। एआरटी सेंटर नहीं आने वाले मरीजों खोजने में मप्र एड्स कंट्रोल सोसायटी को भी पसीना आ रहा है।

इसकी वजह यह कि इंटीग्रेटेड काउंसलिंग एण्ड टेस्टिंग सेंटर(आईसीटीसी) में किसी ने अपना नाम गलत लिखाया है तो किसी ने पता। कुछ ने अपने ठिकाने बदल लिए हैं। एमपीसैक के अधिकारियों ने कहा कि एचआईवी पीड़ितों के स्मार्ट कार्ड बनाए जा रहे हैं। इस व्यवस्था से इन मरीजों को ढूंढना आसान हो जाएगा। उनकी फोटो व अन्य पहचान के आधार पर उनकी पड़ताल की जाएगी। इसके बाद काउंसिलिंग कर उन्हें एआरटी सेंटर भेजा जाएगा।

3700 पीड़ितों को खोजने की मुहिम शुरू

मप्र राज्य एड्स नियंत्रण समिति ने 3700 एचआईवी पीड़ितों के नाम छाटे हैं, जिन्हें खोजकर एआरटी सेंटर लाना है। इनमें कुछ पीड़ित ऐसे हैं, जो इलाज लेना शुरू कर दिए थे और कुछ आज तक एआरटी सेंटर में पंजीकृत ही नहीं हुए हैं।

मप्र एड्स कंट्रोल सोसायटी के अधिकारियों ने बताया कि अब तक 1600 की ट्रेकिंग की जा चुकी है। इनमें 513 ने एआरटी केन्द्र आने की सहमति दी है और 250 आ भी चुके हैं। 57 पीड़ितों ने कहा है कि वे निजी डॉक्टर से इलाज कराएंगे। इतने ही मरीजों ने यह कहकर एआरटी सेंटर आने से मना कर दिया है कि उनका एलोपैथी में भरोसा नहीं, दूसरे पद्धति से इलाज कराएंगे।

18 से 20 फीसद डुप्लीकेट

मप्र एचआईवी पीड़ितों की संख्या कागजों में भले ही 39 हजार है, लेकिन हकीकत यह है कि इनमें 18-20 फीसद, यानि करीब छह हजार डुप्लीकेट हैं। कुछ ऐसे भी हैं जिनका तीन से चार बार नाम दर्ज है। तीन फीसद पीड़ित ऐसे हैं जो दूसरी जगह चले गए हैं।

आंकड़े एक नजर में

एचआईवी पीड़ितों की संख्या- 39114

एआरटी में पंजीकृत – 31000

अब तक मौत – 6500

प्रदेश में एआरटी केन्द्र – 22
www.naidunia.com

Check Also

भोपाल - पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग की समीक्षा बैठक सम्पन्न

भोपाल – पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग की समीक्षा बैठक सम्पन्न

भोपाल – कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आज मुख्य कार्यपालन अधिकारी पंचायत श्री हरजिन्दर सिंह की अध्यक्षता …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *