Home » समाचार » प्रशासन को जगाने आंख में काली पट्टी बांधकर धरना

प्रशासन को जगाने आंख में काली पट्टी बांधकर धरना

शहडोल। यहां प्रशासन के सुस्त रवैये से परेशान होकर एक ग्रामीण खुद आंख में काली पट्टी बांधकर प्रशासन को जगाने की ठानी है। पहले कमिश्नर, कलेक्टर एवं पुलिस तक अपनी बात रखी और जब किसी ने ध्यान नहीं दिया तो 9 दिसम्बर से अनिश्चित कालीन धरने पर बैठ गए।

दो दिन धरने में बैठने के बाद भी जब प्रशासन ने उसकी नहीं सुनी तो तीसरे दिन से आंख में काली पट्टी बांधकर धरना दे रहा है। उल्लेख है कि छह सूत्रीय मांगों को लेकर ग्राम नरगी के कैलाश त्रिपाठी कलेक्ट्रेट के सामने अनिश्चित कालीन धरने पर बैठे हैं और उनके साथ वह ग्रामीण भी धरने पर बैठ रहे हैं जिनके लिये वह प्रशासन के खिलाफ विरोध कर रहा है।

क्या है मामलाः संभागीय मुख्यालय से लगे ग्राम पिपरिया में संचालित प्राइवेट अमृता अस्पताल में सोहागपुर निवासी स्व. मनोज गुप्ता को एक-दो माह पहले उपचार के लिये भर्ती किया गया था। श्री गुप्ता के पित्त की थैली के ऑपरेशन के नाम पर बड़ी राशि ली गई। श्री गुप्ता की माली हालत ठीक न होने के कारण उन्होंने अपने परिजनों से उधारी में लगभग तीन लाख रुपए लेकर अस्पताल में दिया और इसके बाद भी उनकी जान नहीं बच पाई। परिजनों का आरोप है कि उपचार के नाम पर अधिक राशि ली गई और ऑपरेशन के समय कुछ लापरवाही हुई जिसके चलते मनोज की जान चली गई।

वापस मांग रहे राशिः विरोध प्रदर्शन कर रहे कैलाश त्रिपाठी की प्रमुख मांग है कि स्व. मनोज गुप्ता के परिजनों को वह राशि वापस दिलाई जाए जो उपचार के नाम पर अमृता हॉस्पिटल प्रबंधन ने ली है। यदि यह राशि वापस नहीं हुई तो मनोज गुप्ता की पत्नी व परिवार के अन्य लोग उनका पैसा नहीं दे पाएंगे जिससे उधार लिये थे। श्री त्रिपाठी का आरोप है कि शहर के निजी अस्पताल मनमानी तरीके से काम कर रहे हैं। विशेषज्ञ नहीं हैं इसके बावजूद उपचार किया जाता है। 300 रुपये तक चिकित्सक परामर्श शुल्क ले रहे हैं जिसमें सरकारी अस्पताल के डॉक्टर भी शामिल हैं जो निजी अस्पतालों में जाकर उपचार करते हैं।

source www.naidunia.com

Check Also

भोपाल - पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग की समीक्षा बैठक सम्पन्न

भोपाल – पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग की समीक्षा बैठक सम्पन्न

भोपाल – कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आज मुख्य कार्यपालन अधिकारी पंचायत श्री हरजिन्दर सिंह की अध्यक्षता …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *