Home » समाचार » तीन महीने से छेड़ रहा था, पिता को पीटा तो छात्रा ने लगाई फांसी
तीन महीने से छेड़ रहा था, पिता को पीटा तो छात्रा ने लगाई फांसी

तीन महीने से छेड़ रहा था, पिता को पीटा तो छात्रा ने लगाई फांसी

इंदौर। तीन महीने से छेड़छाड़ और अश्लील फब्तियां कसने वाले एक युवक ने जब 10वीं छात्रा के पिता को पीटा तो वह इस कदर डर गई कि उसने फांसी लगा ली। छात्रा को फांसी लगाते उसकी छोटी बहन ने देख लिया तो वक्त रहते परिजन ने उसे बचा लिया। छात्रा अस्पताल में है और आरोपी फरार हैं। युवक की हरकतों से छात्रा इतनी डर गई थी कि उसे घर से निकलने में भी डर लगता था।

राजेंद्र नगर पुलिस के अनुसार, घटना गुरुवार शाम को संजय नगर निवासी 16 वर्षीय छात्रा के साथ हुई। उसकी शिकायत पर पड़ोसी राम, उसके भाई संतोष और फूफेरे भाई निलेश बागरी पर केस दर्ज किया है। छात्रा की मां ने बताया कि मेरी बेटी को पास में रहने वाला राम बागरी तीन महीने से छेड़ रहा था। इसकी शिकायत बेटी ने मुझसे और पिता से की थी। तब मेरे समझाने पर राम मान गया था, लेकिन बाद में उसने फिर छेड़खानी की। गुरुवार शाम 7 बजे जब छात्रा कोचिंग क्लास गई थी तो बदमाश ने वहां उसका रास्ता रोक लिया।

उस पर दोस्ती करने का दबाव बनाने लगा। छात्रा ने विरोध किया तो उसने धमकी दी कि वह रास्ते में कुछ भी कर सकता है। छात्रा रोते हुए घर पहुंची और माता-पिता को घटना बताई। उसके पिता और परिजन राम को समझाने गए तो राम, उसके भाई संतोष और फूफेरे भाई निलेश ने उन्हें लाठियों से पीटा।

माता-पिता को पीटता देख भयभीत छात्रा दौड़ते हुए घर आई और दुपट्टे का फंदा बनाकर लटक गई। तभी उसकी छोटी बहन कमरे में आई और बहन को फंदा लगाते देख मदद के लिए चीखी। इस पर चाचा अंदर आए और छात्रा के पैर पकड़कर उठा लिया। परिजन ने फंदा काटा और एक क्लिनिक ले गए, जहां देर रात एक बजे उसे निजी अस्पताल रैफर किया गया। उसकी हालत स्थिर बताई जा रही है।

दो महीने से नहीं जा रही थी स्कूल-कोचिंग

अस्पताल में भर्ती छात्रा आपबीती सुनाते हुए फूट-फूट कर रोने लगी। उसने बताया कि मैं जुल्म की दास्तां बयां नहीं कर सकती। स्कूल जाते वक्त राम बाइक से पीछा करता और फब्तियां कसता। हमेशा दोस्ती करने के लिए दबाव बनाता था। मैंने कई बार उसकी बात इस डर से छिपा ली कि कहीं माता-पिता इसकी हरकतों से मेरा स्कूल जाना बंद न कर दें। जब अति हो गई तो मैंने एक बार मां को इस बारे में बताया।

तब उसे समझाया तो उसने कुछ दिन छेड़छाड़ बंद कर दी। अब वह फिर से वह पीछा करने लगा था। छात्रा ने बताया कि वह बदमाश की हरकतों के कारण दो महीने से स्कूल और कोचिंग नहीं जा रही थी। अब परीक्षा शुरू होने वाली थी तो छात्रा ने फिर से कोचिंग जाना शुरू किया ही था कि बदमाश ने फिर हरकत शुरू कर दी।

पूरे इलाके में बेचता है शराब

छात्रा और उसके परिजन का कहना है कि राम और संतोष घर से ही शराब का धंधा करते हैं। पुलिस की गाड़ी भी कभी-कभार आती है पर उन पर कार्रवाई नहीं करती। कई लोगों का उनके घर आना-जाना लगा रहता है।

बाथरूम में छिपकर बैठ गया था

छात्रा की छोटी बहन ने बताया कि गुरुवार को सुबह 5 बजे जब उसकी मां घर के बाहर बनी बाथरूम में पहुंची तो राम वहां छिपकर बैठा था। मां चिल्लाई तो वह बोला कि ऐसे ही घुस गया था। परिवार वालों को शक है कि वह छात्रा को पकड़ने के इंतजार में बैठा था।

दीदी लटकी हुई थी

छोटी बहन ने बताया कि जब तीन लोग उसके पिता को पीट रहे थे तब बीच बचाव करने एक पड़ोसी आए। संतोष ने उन्हें भी ईंट फेंककर मार दी। पिता की पिटाई होती देख बड़ी बहन रोते हुए घर के अंदर भागी और कमरे में कुर्सी पर खड़ी होकर फंदा कस लिया। मैंने देख लिया और मदद की लिए चीखी। चाचा आए और उसे बचाया।-नप्र।
source www.naidunia.com

Check Also

भोपाल - पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग की समीक्षा बैठक सम्पन्न

भोपाल – पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग की समीक्षा बैठक सम्पन्न

भोपाल – कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आज मुख्य कार्यपालन अधिकारी पंचायत श्री हरजिन्दर सिंह की अध्यक्षता …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *